* उल्टा तीर लेखक/लेखिका अपने लेख-आलेख ['उल्टा तीर टोपिक ऑफ़ द मंथ'] पर सीधे पोस्ट के रूप में लिख प्रस्तुत करते रहें. **(चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक, ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिखें ) ***आपके विचार/लेख-आलेख/आंकड़े/कमेंट्स/ सिर्फ़ 'उल्टा तीर टोपिक ऑफ़ द मंथ' पर ही होने चाहिए. सधन्यवाद.
**१ अप्रैल २०११ से एक नए विषय (उल्टा तीर शाही शादी 'शादी पर बहस')के साथ उल्टा तीर पर बहस जारी...जिसमें आपका योगदान अपेक्षित है.*[उल्टा तीर के रचनाकार पूरे महीने भर कृपया सिर्फ और सिर्फ जारी [बहस विषय] पर ही अपनी पोस्ट छापें.]*अगर आप उल्टा तीर से लेखक/लेखिका के रूप में जुड़ना चाहते हैं तो हमें मेल करें या फोन करें* ULTA TEER is one of the well-known Hindi debate blogs that raise the issues of our concerns to bring them on the horizon of truth for the betterment of ourselves and country. आप सभी लोगों को मैं एक मंच पर एकत्रित होने का तहे-दिल से आमंत्रण देता हूँ...आइये हाथ मिलाएँ, लोक हितों की एक नई ताकत बनाएं! *आपका - अमित के सागर E-mail: ocean4love@gmail.com, ultateer@gmail.com, Mob: +91- 9990 181944

गुरुवार, 12 नवंबर 2009

पत्नी पीड़ित! चिट्ठाकार क्षमा करें- घरेलू हिंसा- ६


घरेलू हिंसा का मुख्य कारण पुरूषवादी सोच होना है और स्त्री को भोग की विषय वस्तु बनाना है। सामंती युग मेंराजा-महाराजाओं के हरम या रनिवास होते थे जिसमें हजारो-हजारो स्त्रियाँ रखी जाती थी । पुरूषवादी मानसिकता मेंस्त्री को पैर की जूती समझा जाता है इसीलिए मौके बे मौके उनकी पिटाई और बात-बात पर प्रताड़ना होती रहती है . समाज में बातचीत में स्त्री को दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती की संज्ञा दी जाती है किंतु व्यव्हार में दोयम दर्जे का व्यव्हारकिया जाता है कुछ देशों की राष्ट्रीय आय का श्रोत्र देह व्यापार ही है ।

मानसिकता बदलने की जरूरत है भारतीय कानूनमें 498 आई पी सी में दंड की व्यवस्था की गई है किंतु सरकार ने पुरुषवादी मानसिकता के तहत एकनया कानून घरेलु हिंसा अधिनियम बनाया है जिसका सीधा-सीधा मतलब है पुरुषों द्वारा की गई घरेलू हिंसा से बचावकरना है इस कानून के प्राविधान पुरुषों को ही संरक्षण देते हैं.

समाज व्यवस्था में स्त्रियों को पुरुषों के ऊपर आर्थिक रूप से निर्भर रहना पड़ता है जिसके कारण घरेलू हिंसा का विरोधभी नही हो पाता है आज के समाज में बहुसंख्यक स्त्रियों की हत्या घरों में कर दी जाती है और अधिकांश मामलों मेंसक्षम कानून व पुरुषवादी मानसिकता के कारण कोई कार्यवाही नही हो पाती है । स्त्रियों को संरक्षण के लिए जितने भीकानून बने हैं वह कहीं न कहीं स्त्रियों को ही प्रताडित करते हैं , जब तक 50% आबादी वाली स्त्री जाति को आर्थिक स्तरपर सुदृण नही किया जाता है तबतक लचर कानूनों से उनका भला नही होने वाला है ।

किसी भी देश का तभी भला हो सकता है जब उस देश की बहुसंख्यक स्त्रियाँ भी आर्थिक रूप से सुदृण होहमारे देश को बहुत सारे प्रान्तों में स्त्रियाँ 18-18 घंटे तक कार्य करती हैं और पुरूष कच्ची या पक्की दारूपिए हुए पड़े रहते हैं उसके बाद भी वो कामचोर पुरूष पुरुषवादी मानसिकता के तहत उन मेहनतकशस्त्रियों की पिटाई करता रहता है । घरेलु हिंसा से तभी निपटा जा सकता है जब सामाजिक रूप से स्त्रियाँमजबूत हों ।

यह पोस्ट उल्टा तीर पर चल रही बहस घरेलू हिंसा के लिए लिखी गई है और इसका शीर्षक यह इसलिए रखा गया है कीमुझे इन्टरनेट पर पत्नी पीड़ित ब्लागरों की यूनियन बनाने की बात की पोस्ट दिखाई दी थी इसलिए पत्नी पीड़ितचिट्ठाकारों से क्षमा मांग ली गई है ।

उल्टा तीर के लिए
[सुमन]

22 टिप्‍पणियां:

  1. आर्थिक रूप से सुदृढ़ होना ही चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या आपने कभी सोचा है की आखिर ये महिला क्यों
    पिटती है क्यों नहो इसका प्रतिकार करती क्युकी देश मई आज भी नारी देश की राजधानी मे वेश्यावर्ती कानून अपराध होते हुए भी जारी है तब दूर दराज के गाँव और कस्बो मे रहने वाली ओरतो के हक के बात करना और ये कहना की ये कानून है फला कानून है इनका कोई मतलब नहीं आपसे एक सवाल पूछता हूँ की क्या उस ओरत को वो पुरुष पत्नी रूप मे दुबारा उसे स्वीकार करेगा जब वो उसको पुलिश मे सिकायत कर बंद करवा दे
    जय श्री राम

    उत्तर देंहटाएं
  3. sriman karmowala ji,
    deh vyapar mein bhaduva purush hi hota hai aur poora deh vyapar purushon dvara hi sanchalit kiya jata hai striyon ko majboor kar pratadit kar yah kary hota hai aap ko styriyon ko pitane ka adhikaar kis sabhy samaj ne de diya hai striyaan pitti rahein aur ufh bhi na karein agar striyaan aarthik roop se majboot hain unko pitane ki koi himmat kar sakta hai gharelu hinsa ka mukhy karan striyon ka svavlambi hona purush vaadi mansikta k karan tamaam ulte sidhe savaal uthte rehte hain jiska koi matlab nahi hota hai isliye aap se vinamr anurodh hai ki aap apni patni ko pair ki jooti na samjhein sar ka taaj bana kar rakhein

    sadar

    suman

    उत्तर देंहटाएं
  4. amit ji
    you done fantastic job for woman
    i hope so you r succes in and plese don't stop till reach ur goal

    उत्तर देंहटाएं
  5. mai janti hu
    tum mere liye jo pazeb laye ho
    vah mere pairon me sajne ke liye nahi
    meri choukasi ke liye hai.
    Mere hathon ki chudiyan meri har aahat ki khabar tum tak pahucha deti hai
    Taki tum meri har gatividhi par niyantran rakh sako

    उत्तर देंहटाएं
  6. सामाजिक रूप से स्त्रियों का मजबूत होना बेहद जरूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब तक ५० प्रतिशत स्त्री जाति को आर्थिक रूप से सुद्दढ़ नहीं किया जाता है
    तब तक लचर कानूनों से उनका भला होने वाला नहीं--
    लेख में ऐसे ही सुझाव आने चाहिए।
    समस्या तो सभी जानते हैं
    बहस इस बात पर होनी चाहिए
    कि हम
    समस्या का हल क्या निकाल सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. घरेलू हिंसा से बचाव व जागरूकता के लिए पढिये मरे ब्लाग पर आखिर कब तक सहूगी.... अन्तिम भाग

    Emotin's http://swastikachunmun.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. ... समय के साथ बदलाव आवश्यक हो गया अन्यथा इस तरह की घरेलू हिंसा होते रहेगी !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सामाजिक रूप से स्त्रियों का मजबूत होना बेहद जरूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. SAB APNI APNI KISMAT KA PAYA HAI KON KISKO AAJ KAL KI AURAT BHI BAHUT CHODARI HO GAYI HAI

    उत्तर देंहटाएं
  12. kanoon banakar ham yah sochte hain ki hamara kartavya khatm ho gaya ,par kya iska durupyog nahi ho raha hai? jo puroosh is case me fasaye jaa rahe hain kya sach me unka ektarfa hath hai .

    उत्तर देंहटाएं
  13. dahej ak samajik burai hai .hame dahej nahi lena chahia .

    उत्तर देंहटाएं
  14. Gharelu hinsa ka mukadma agar koi hamare khilaf likhwata hai .jiska ki matlab kewal hame paresan karna hai to hame kya karana chahiye jisme ki hamari koi galti nahi hai wo chahti hai ki ham use harjana de

    उत्तर देंहटाएं
  15. Gharelu hinsa ka mukadma agar koi hamare khilaf likhwata hai .jiska ki matlab kewal hame paresan karna hai to hame kya karana chahiye jisme ki hamari koi galti nahi hai wo chahti hai ki ham use harjana de

    उत्तर देंहटाएं
  16. Koi fayda nhi h inn sb kanoon ka jab striyon ko insaaf hi nhi milta sirf taarikhon k alawa...striyan toh purusho k pair ki juti bnkr reh gyi hn,desh ka koo kanoon aisa h hi nhi jo striyon ko insaaf de

    उत्तर देंहटाएं
  17. samaj khud is samsya ka mol hai apne hi khoon k riste dusro k aage sar jhuka dete hai ? main to bolu hu ke aap log kisi k aage na jhuke siwaye god k

    उत्तर देंहटाएं
  18. Desh mai mahila sanrakshan kanoon bna desh ki mhilaon ko atyachar se bachane ke liye..ye bahut achha h .lekin kuch mahilayen is mahila sanrakshan kanoon ka durupyog kar rhi h ..or bevajah apni baat purushon se manwane .rupaye aithne.sampatti apne nam karwane .or pati ko markar ya kisi se marwa ker nokri khud hadpane ke liye pati or apne susural walon ko jhoothe mai fasane ki dhamkiyan deti h .or kuch mahilaye to apne susural walo pr jhoothe mukadme dayar kr deti ..aise mai un patiyon or sasural walo ko bhi uchit nyay milña chahiye..iski nishpaksh jaach honi chahiye.

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी लोगों का बहुत-बहुत शुक्रिया जो आप अपने कीमती वक़्त से कुछ समय निकालकर समाज व देश के विषयों पर अपनी अमूल राय दे रहे हैं. इस यकीन के साथ कि आपका बोलना/आपका लिखना/आपकी सहभागिता/आपका संघर्ष एक न एक दिन सार्थक होगा. ऐसी ही उम्मीद मुझे है.
--
बने रहिये हर अभियान के साथ- सीधे तौर से न सही मगर जुडी है आपसे ही हर एक बात.
--
आप सभी लोगों को मैं एक मंच पर एकत्रित होने का तहे-दिल से आमंत्रण देता हूँ...आइये हाथ मिलाएँ, लोक हितों की एक नई ताकत बनाएं!
--
आभार
[उल्टा तीर] के लिए
[अमित के सागर]

Related Posts with Thumbnails
"एक चिट्ठी देश के नाम" (हास्य-वयंग्य) ***बहस के पूरक प्रश्न: समाधान मिलके खोजे **विश्व हिन्दी दिवस पर बहस व दिनकर पत्रिका १५ अगस्त 8th march अखबार आओ आतंकवाद से लड़ें आओ समाधान खोजें आतंकवाद आतंकवाद को मिटायें.. आपका मत आम चुनाव. मुद्दे इक़ चिट्ठी देश के नाम इन्साफ इस बार बहस नही उल्टा तीर उल्टा तीर की वापसी एक चिट्ठी देश के नाम एक विचार.... कविता कानून घरेलू हिंसा घरेलू हिंसा के कारण चुनाव चुनावी रणनीती ज़ख्म ताजा रखो मौत के मंजरों के जनसत्ता जागरूरकता जिन्दगी या मौत? तकनीकी तबाही दशहरा धर्म संगठनों का ज़हर नेता पत्नी पीड़ित पत्रिकारिता पुरुष प्रासंगिकता प्रियंका की चिट्ठी फ्रेंडस विद बेनेफिट्स बहस बुजुर्गों की दिशा व दशा ब्लोगर्स मसले और कानून मानसिकता मुंबई का दर्दनाक आतंकी हमला युवा राम रावण रिश्ता व्यापार शादी शादी से पहले श्रंद्धांजलि श्री प्रभाष जोशी संस्कृति समलैंगिक साक्षरता सुमन लोकसंघर्ष सोनी हसोणी की चिट्ठी amit k sagar arrange marriage baby tube before marriage bharti Binny Binny Sharma boy chhindwada dance artist dating debate debate on marriage DGP dharm ya jaati Domestic Violence Debate-2- dongre ke 7 fere festival Friends With Benefits friendship FWB ghazal girls http://poetryofamitksagar.blogspot.com/ my poems indian marriage law life or death love marriage mahila aarakshan man marriage marriage in india my birth day new blog poetry of amit k sagar police reality reality of dance shows reasons of domestic violence returning of ULTATEER rocky's fashion studio ruchika girhotra case rules sex SHADI PAR BAHAS shadi par sawal shobha dey society spouce stories sunita sharma tenis thoughts tips truth behind the screen ulta teer ultateer village why should I marry? main shadi kyon karun women

[बहस जारी है...]

१. नारीवाद २. समलैंगिकता ३. क़ानून (LAW) ४. आज़ादी बड़ी बहस है? (FREEDOM) ५. हिन्दी भाषा (HINDI) ६. धार्मिक कट्टरता और आतंकवाद . बहस नहीं विचार कीजिये "आतंकवाद मिटाएँ " . आम चुनाव और राजनीति (ELECTION & POLITICS) ९. एक चिट्ठी देश के नाम १०. फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स (FRIENDS WITH BENEFITS) ११. घरेलू हिंसा (DOMESTIC VIOLENCE) १२. ...क्या जरूरी है शादी से पहले? १३. उल्टा तीर शाही शादी (शादी पर बहस- Debate on Marriage)