* उल्टा तीर लेखक/लेखिका अपने लेख-आलेख ['उल्टा तीर टोपिक ऑफ़ द मंथ'] पर सीधे पोस्ट के रूप में लिख प्रस्तुत करते रहें. **(चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक, ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिखें ) ***आपके विचार/लेख-आलेख/आंकड़े/कमेंट्स/ सिर्फ़ 'उल्टा तीर टोपिक ऑफ़ द मंथ' पर ही होने चाहिए. सधन्यवाद.
**१ अप्रैल २०११ से एक नए विषय (उल्टा तीर शाही शादी 'शादी पर बहस')के साथ उल्टा तीर पर बहस जारी...जिसमें आपका योगदान अपेक्षित है.*[उल्टा तीर के रचनाकार पूरे महीने भर कृपया सिर्फ और सिर्फ जारी [बहस विषय] पर ही अपनी पोस्ट छापें.]*अगर आप उल्टा तीर से लेखक/लेखिका के रूप में जुड़ना चाहते हैं तो हमें मेल करें या फोन करें* ULTA TEER is one of the well-known Hindi debate blogs that raise the issues of our concerns to bring them on the horizon of truth for the betterment of ourselves and country. आप सभी लोगों को मैं एक मंच पर एकत्रित होने का तहे-दिल से आमंत्रण देता हूँ...आइये हाथ मिलाएँ, लोक हितों की एक नई ताकत बनाएं! *आपका - अमित के सागर E-mail: ocean4love@gmail.com, ultateer@gmail.com, Mob: +91- 9990 181944

शनिवार, 17 मई 2008

"नारीवाद का विचार मक्कार पुरुषों की देन है?" (१)

इये शामिल हो जाइये अब तक की सबसे बड़ी बह"नारीवाद का विचार मक्कार पुरुषों की देन है? " में ! नारीवाद के रहनुमाओं को खुली चुनौती... नारीवाद पर अब तक सबसे उत्तेजक बहस "उल्टा तीर" पर !!

ये बहस आख़िर क्यों ?


सम्प्रति महिला समाज संसद के भीतर और बाहर महिला आरक्षण के मुद्दे को ज़ोर-शोर से उठाया जा रहा है। कुछ पुरुष तो बाकायदा नारीवादी हो गए हैं. समाज में येसे पुरुषों की कमी नहीं जो मर्द होकर भी धीरे-धीरे स्त्री होते जा रहे हैं. दरअसल, अब ये वक़्त आ गया है कि माता तुल्य इन देवियों से करबद्ध प्रार्थना कि जाए कि हे! देवियों अब आप घर में बेठो, घर की चार दीवारियों को आपकी जरुरत है. महिलाओं के घर से बाहर निकलने की वजह से परिवार टूट रहे हैं? अपराध बढ़ रहे हैं? नई नसलें माँ के प्यार को तरस रही हैं! समाज इक़ बड़े विघटन की कगार पर खडा है. चौका-चुल्हा, घर को सँवारने का काम तो लगता है नारी भूल ही गई है. और तो और महिलायों के आगे आजाने से देश में बेरोजगारी भी बड़ रही है. पुरुष घर पर निठल्ले होते जा रहे हीं. उनकी उर्जा विध्वंस का कारण बन रही है.

परिवार जैसी सस्थाओं से नयी उम्र की महिलाओं का भरोसा उठने लगा है। समाज में एक अलग तरह की परिपाटी बनती जा रही है कामकाजी महिलाएं बाह्य परिवेश को तो सवांर रही हैं लेकिन घर मानो उनकी वजह से टूटने लगे हैं। पश्चिम का ये अंधानुकरण न जाने हमारे समाज और राष्ट्र को किस ओर ले जाएगा। गंभीरता से सोचने वाली बात है !!

समाज के चन्द निठल्ले पुरूष जो वाकई में कुछ भी काम-काज नही करना चाहतें हैं वो ज़ोर-शोर से नारीवाद के आन्दोलन को हवा दे रहे हैं? साथ ही मेरी उन कथित महिलाओं से भी विनती है जिन्होंने पचास की उम्र पार कर ली है, समूची दुनिया को देख लिया है, वे नारीवाद के बहाने कम से कम नयी उम्र की महिलाओं को बहलाना छोड़ दें। उनका वैवाहिक जीवन बसने दें, उनको घर-संसार को सजाने का अवसर दें। अगर घर मज़बूत होंगे तो यकीनन इसका श्रेय समाज केवल और केवल नारियों को ही देगा। हमारे मुल्क में नारियों को भगवान् का दर्जा दिया गया है। ताने-बाने को ऐसा ही रहने दें?

-------------------------------------------------------------------------------------------
ये तो हुआ बहस का एक पहलू जो हमे एक पाठक ने भेजा है। इस राय पर अपने विचार दीजिये क्योंकि बहस अभी बाकी है मेरे दोस्त !! "उल्टा तीर" पढ़ते रहिये.

**
उल्टा तीर मे प्रकाशित किसी भी विचार के लिए ब्लॉग मोडरेटर की कोई जिम्मेवारी नही है। पाठक के अनुरोध पर उनका नाम गोपनीय रखा गया है
(उल्टा तीर:तीर वही जो घायल कर दे )

8 टिप्‍पणियां:

  1. Purush agar khud ke dum pe kuch hasil nahi kar paa raha hai to isme dosh purush ka hai nari ka nahi !!samaj 21vi sadi me hai lekin aapke ye anam pathak .nari ko ghar baithalna chahte hain .kya aisa sambhnv hai ? aaj zamana naya hai ....aur ye waqat kii darkar hai ki nari ko barabari ka haq mile ....umeed karta hoon is behas me mera mat bhii aap shamil karenge ...aapke ye aanam pathak waqat ko peeche le jane kii baat keh rahe hain.aapka koi dosh nahi ..aakhir behas me to ye sab hoga hii ....mahlaon ko aage aane diziye !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. agar aaj ye sthiti paida huyi to kyu huyi jab purush naari ko kamjor samjhne laga use pairo ki dhool samjhne laga tab naari ne bhi aage badkar ye dikha diya ki jo purush kar sakta hai wo naari bhi kar sakti hai aaj naari is mukaam par pahunch gayi hai ki purush ke har sawal ka jawab de to kuchh nithlle purush jo apni nithalla ko chhipane ke liye naari par jor aajmate the,unke aham ko chot lagi wo tadap uthe aur naari naariwad ko bura bhala kahne lage aaj bhi mai aise kai naariyo ko janta hu jo kaam bhi karti hai aur ghar bhi achhe se samhalti hai
    jara rahi berojgaari badne ki bat to sitara kabhi kisi roshni ka mohtaaj nahi hota jiske ander talent hai uske liye kaam ki koi kami nahi par jo nithalle hai wo dosh naari aur aisi hi aur dushro par lagate hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. नारी को हमेशा विवादों रखना
    शायद पुरुष समाज कि जाने क्या मजबुरी है.
    कोन नहीं शुकुन से जीना चाहता चाहे वो नारी ही क्यों न हो .
    जब नारी घर से बाहर रोजी रोटी के लिए जाती है तब उस कि जिंदगी दोहरी और ताकन से भरि होती है क्यों कि घर आकर तो उसे ही घर कि सभी जिम्मेदारिया निभानी पड़ती है .
    खुद उस का जीवन इनसब में खो जाता है सारी जद्दो जाहत घर कि लिए होती है और बदले में उसे क्या मिलाता है उपेक्षा त्रिस्कर ,व्यग समाज का पर ममता कि मरी फिर भी खटतीहै और एक दिन खर्च होजाती है चली जाती है खामोशी से

    उत्तर देंहटाएं
  4. mayank ने कहा…
    nahi nariwad ka wichar koi purushon ki den nnahi hai ye to nariyon ke dwara hi paida kiya hua hai nariya khud hi apne aap ko purushon se aage dekhna chahti hai or ye sab uska hi karan hai par shyad nariya apna astitav bhoolti ja rahi hai ki wo kabhi sita ke roop mein bhi is dharti par aain thi or unko aaj pura samaj devi ki tarak poojta hai agar nnri chahti hai ki wo bhi unki hi tarah poojyaniya bane to usko purushon se hod band ka sita ki tarah rahna seekhna hoga.
    May 20, 2008 2:15 AM
    ---
    यह प्रतिक्रिया "नारीवाद का विचार मक्कार पुरुषों की देन है?" पर हमें पाठक "मयंक जी" ने भेजी है. उनके द्वारा प्रतिक्रिया को पोस्ट करने में कुछ-जल्दबाजी के कारण अन्यत्र लेख पर प्रकाशित हुई. हम उनके विचारों को सादर यहाँ प्रकाशित कर रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी बात से कुछ हद तक सहमत हुआ जा सकता है यह सच है की ओरत को जीवन मैं दोहरी जिम्मेदारी इसे नर के कारण ही उठानी पड़ती है नही तो ओरत परिवार की जिम्मेदारी जिस उतम तरीके से निभाती है उसे देखते हुए ही उसे अन्य जिम्मेदारी नौकरी या राजनीती के श्चेत्र मैं दी है जिसे उसने पूरी सिद्त से साबित भी किया है लकिन कहीं न कहीं इस कारण परिवार और समाज मैं नारी का समान खो गया है क्योकि नारी नर से आगे निकलने के चक्कर मैं इन्ही लोगो के हाथ की कटपुतली बन गयी है जिसे आप आरक्षण की राजनीती और इसे ही रिज़र्व स्थानों पर देख सकते हो अगर आप देखना चाहते हो कोई भी स्त्री अपने पिता, भाई और पति को घर मैं नक्कारा बैठा नहीं देखना चाहेगी इसलिए नर को अपनी जिम्मेदारी और ओरतो को उनके लिए काम का मौका देना होगा
    अंत मैं मैं आपसे इस तरह के उन्मुक्त और जिम्मेदारी वाले विचारो के प्रसार को हर तरह से आगे बढाने का अनुरोध करुगी और इसे केवा बहस का रूप ही मत दीजिये बल्कि एक जन आन्दोलन का रूप देने का अथक प्रयास करे

    उत्तर देंहटाएं
  6. aapne sahi likha hai. nari ghar-pariwar ki sundarta hai.naari ko barabari ka darja milna chahiye, lekin essa nahi jaisa rajnitik dal dena chahte hai. nari ko sampatti main 50 percent mile. shikhha main aage badhe.lakin rajinitik dalon aur filmo main nahi jana chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  7. sagar ji, jaisa mujhe samajh mein aa raha hai, aurat ke liye ghar ke bahar kaam karna koi nai baat nahi hai,bade gharon mein bahut pracheen kaal se hi naukar rakhe jate the aur jayadatar wo mahilayen hi hoti thin.ye alag baat hai ki naye yug mein aurat ne apne tarike se har vayavsay mein apni kabiliyat dikha kar ye sidh kar diya hai ki wo bhi purush se kam nahi hai.
    jin gharon mein aurat purush ke sath samnjasya bana ke har paristhiti ka samna karti hai..wahan use bahut tyag bhi karna padta hai..kyunki wahan use dohri bhoomika to nibhani hi padti hai sath hi use kai tarah ke swalon ka bhi samna karna padta hai.par isha nuksan bhi poori tarah se aurat ko hi mila hai.agar wo kaam kare to alag paristhti aur na kare to doose halat..ghar kharch chalane mein sath de to bhi buri aur na de to bhi kharab halat.
    is mehangai ke daur mein aalam ye hai ki jinte sadasya hon sab kamayen aur sab khayen..purane zamane ki baat aur thi.
    aur jaisa maine dekha hai gahr se bahar kaam karne jana har aurat ke liye utan aasan nahi hota jitna ki purush ko lagta ya dikhta hai..ghar se bahar bhi to purushon dwara mahilaon ka shoshan hota hai.
    mai aisa nahi kehtei ki purushon ke sath atyachar nahi hota..kai gharon mein purushon ke sath bhi bahut atyachar hota hai.
    aur jaisa mujhe lagta hai santan dono ki hoti hai to sansak dene mein bhi dodno de barabar ki bhoomika nibhani chahiye.
    aapne bahas ka ek aisa mudda uthaya hai jiska koi ant nahi hai
    lage rahiye

    उत्तर देंहटाएं

आप सभी लोगों का बहुत-बहुत शुक्रिया जो आप अपने कीमती वक़्त से कुछ समय निकालकर समाज व देश के विषयों पर अपनी अमूल राय दे रहे हैं. इस यकीन के साथ कि आपका बोलना/आपका लिखना/आपकी सहभागिता/आपका संघर्ष एक न एक दिन सार्थक होगा. ऐसी ही उम्मीद मुझे है.
--
बने रहिये हर अभियान के साथ- सीधे तौर से न सही मगर जुडी है आपसे ही हर एक बात.
--
आप सभी लोगों को मैं एक मंच पर एकत्रित होने का तहे-दिल से आमंत्रण देता हूँ...आइये हाथ मिलाएँ, लोक हितों की एक नई ताकत बनाएं!
--
आभार
[उल्टा तीर] के लिए
[अमित के सागर]

Related Posts with Thumbnails
"एक चिट्ठी देश के नाम" (हास्य-वयंग्य) ***बहस के पूरक प्रश्न: समाधान मिलके खोजे **विश्व हिन्दी दिवस पर बहस व दिनकर पत्रिका १५ अगस्त 8th march अखबार आओ आतंकवाद से लड़ें आओ समाधान खोजें आतंकवाद आतंकवाद को मिटायें.. आपका मत आम चुनाव. मुद्दे इक़ चिट्ठी देश के नाम इन्साफ इस बार बहस नही उल्टा तीर उल्टा तीर की वापसी एक चिट्ठी देश के नाम एक विचार.... कविता कानून घरेलू हिंसा घरेलू हिंसा के कारण चुनाव चुनावी रणनीती ज़ख्म ताजा रखो मौत के मंजरों के जनसत्ता जागरूरकता जिन्दगी या मौत? तकनीकी तबाही दशहरा धर्म संगठनों का ज़हर नेता पत्नी पीड़ित पत्रिकारिता पुरुष प्रासंगिकता प्रियंका की चिट्ठी फ्रेंडस विद बेनेफिट्स बहस बुजुर्गों की दिशा व दशा ब्लोगर्स मसले और कानून मानसिकता मुंबई का दर्दनाक आतंकी हमला युवा राम रावण रिश्ता व्यापार शादी शादी से पहले श्रंद्धांजलि श्री प्रभाष जोशी संस्कृति समलैंगिक साक्षरता सुमन लोकसंघर्ष सोनी हसोणी की चिट्ठी amit k sagar arrange marriage baby tube before marriage bharti Binny Binny Sharma boy chhindwada dance artist dating debate debate on marriage DGP dharm ya jaati Domestic Violence Debate-2- dongre ke 7 fere festival Friends With Benefits friendship FWB ghazal girls http://poetryofamitksagar.blogspot.com/ my poems indian marriage law life or death love marriage mahila aarakshan man marriage marriage in india my birth day new blog poetry of amit k sagar police reality reality of dance shows reasons of domestic violence returning of ULTATEER rocky's fashion studio ruchika girhotra case rules sex SHADI PAR BAHAS shadi par sawal shobha dey society spouce stories sunita sharma tenis thoughts tips truth behind the screen ulta teer ultateer village why should I marry? main shadi kyon karun women

[बहस जारी है...]

१. नारीवाद २. समलैंगिकता ३. क़ानून (LAW) ४. आज़ादी बड़ी बहस है? (FREEDOM) ५. हिन्दी भाषा (HINDI) ६. धार्मिक कट्टरता और आतंकवाद . बहस नहीं विचार कीजिये "आतंकवाद मिटाएँ " . आम चुनाव और राजनीति (ELECTION & POLITICS) ९. एक चिट्ठी देश के नाम १०. फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स (FRIENDS WITH BENEFITS) ११. घरेलू हिंसा (DOMESTIC VIOLENCE) १२. ...क्या जरूरी है शादी से पहले? १३. उल्टा तीर शाही शादी (शादी पर बहस- Debate on Marriage)